शिवा थापा ने अपना पांचवां पदक पक्का किया

 


 नई दिल्ली (वार्ता)। भारत के शिवा थापा दुबई में जारी 2021 ए.एस.बी.सी. एशियाई महिला एवं पुरुष मुक्केबाजी चैंपियनशिप के 64 कि.ग्रा. भार वर्ग के सेमीफाइनल में पहुंच गए हैं। इसके साथ ही शिवा ने अपने लिए एक पदक पक्का कर लिया है। शिवा ने मंगलवार को कुवैत के नादेर ओदाह को एकतरफा अंदाज में 5-0 से हराया और एशियाई चैम्पियनशिप में अपने लिए पांचवां पदक पक्का किया। शिवा इससे पहले एक स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक जीत चुके हैं। 27 साल के शिवा ने लाइटवेट में दूसरा पदक पक्का किया है। इससे पहले 2019 में शिवा ने बैंकाक में कांस्य पदक जीता था। शिवा ने 2015 में बैंकाक में ही कांस्य पदक जीता था लेकिन वह पदक बैंटमवेट कटेगरी में आया था। इससे पहले, शिवा ने 2017 में बैंटमवेट में ही ताशकंद में रजत पदक जीता था। इसी कटेगरी में शिवा 2013 में अम्मान में स्वर्ण भी जीत चुके हैं। शिवा के नाम 2015 विश्व चैम्पियनशिप का कांस्य पदक भी है। अब देखना है कि शिवा लाइटवेट में अपने पदक का रंग बदल पाते हैं या नहीं। सेमीफाइनल में अगर वह जीत जाते हैं तो वह निश्चित तौर पर ऐसा करने में सफल होंगे लेकिन इसके लिए शिवा को टाप सीड ताजिकिस्तान के बखोदुर उस्मानोव को हराना होगा। मंगलवार को ही खेले गए पहले मुकाबले में भारत के मोहम्मद हुसामुद्दीन 56 किग्रा वर्ग के क्वार्टर फाइन मैच में मौजूदा विश्व चैम्पियन उजबेकिस्तान के मिराजिजबेक मिर्जाहालीलोव के हाथों हार गए। पहले दौर में हुसामुद्दीन ने 56 किलो ग्राम भार वर्ग में कजाकिस्तान के मखमुद सेबिर्क को एकतरफा अंदाज में 5-0 से हराया था लेकिन वह क्वार्टर फाइनल में टाप सीड की चुनौती के आगे नहीं टिक सके और 1-4 के स्पिलिट निर्णय से मुकाबला गंवाकर टूर्नामेंट से बाहर हो गए। दुबई में जारी एशिया की इस प्रतिष्ठित चैंपियनशिप की मेजबानी बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बी.एफ.आई.) और यू.ए.ई. बॉक्सिंग फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से की जा रही है। हुसामुद्दीन और शिवा के अलावा आज की रात, चार अन्य भारतीय मुक्केबाज इस प्रतिष्ठित आयोजन के क्वार्टर फाइनल में भाग लेंगे। इनमें महिला मुक्केबाज सिमरनजीत कौर (60 कि.ग्रा.), साक्षी (54 कि.ग्रा.), जैस्मीन (57 कि.ग्रा.) और पुरुष मुक्केबाज संजीत (91 कि.ग्रा.) शामिल हैं। ये सभी अपने - अपने वर्ग में देश के लिए पदक पक्का करने की कोशिश करेंगे। शुरुआत में इस टूर्नामेंट में 27 से अधिक देशों की भागीदारी की उम्मीद थी। हाल ही में लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों के कारण, हालांकि कुछ देश इसमें भाग नहीं ले सके। इस आयोजन में अब भारत, उज्बेकिस्तान, फिलीपींस और कजाकिस्तान जैसे मजबूत मुक्केबाजी देशों सहित 17 देशों के 150 मुक्केबाज अपनी श्रेष्ठता साबित करने का प्रयास करेंगे। 2019 में बैंकॉक में आयोजित चैंपियनशिप के पिछले संस्करण में, भारतीय टीम ने दो स्वर्ण सहित 13 पदक जीतते हुए अभूतपूर्व सफलता हासिल की थी।

Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद