विश्वविद्यालय में छत्रपति शाहूजी महाराज की 147वीं जयंती मनाई

 > कुलपति ने शाहू जी महाराज पर शोध करने वाले छात्र को प्रत्येक माह रुपए 10,000 की छात्रवृत्ति प्रदान करने की घोषणा की

दैनिक कानपुर उजाला
कानपुर।
छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय में छत्रपति शाहू जी महाराज की 147 वीं जयंती मनाई गई। इस अवसर पर कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक ने प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और बताया कि छत्रपति शाहू जी महाराज उन बहादुर एवं निर्भीक शासकों में शुमार होते हैं जिन्होंने कुशलतापूर्वक सत्ता संचालन के साथ - साथ समाजसुधारक कार्यों से भी जीवन पर्यंत जुड़े रहे। वे एक ऐसी शख्सियत रहे हैं। जिन्होंने राजा होने के बावजूद समाज के दलितों और शोषित वर्गों के दर्द को न सिर्फ समझा बल्कि उनकी समस्याओं को दूर करने का प्रयास भी किया। दलित वर्ग के बच्चे शिक्षित हो सकें, इसलिए उन्होंने उनके लिए मुफ्त शिक्षा प्रदान करने की प्रकिया शुरु की थी। उन्होंने गरीब छात्रों के लिए छात्रावास स्थापित किए और बाहरी छात्रों को शरण प्रदान करने के आदेश दिए। समाज में हर वर्ग को समान नजरिए से देखने वाले छत्रपति शाहू महाराज के शासन काल के दौरान बाल विवाह जैसी प्रथा पर भी प्रतिबंध लगाया गया था। इस अवसर पर कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक द्वारा छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर में शाहू जी महाराज के नाम पर प्रत्येक वर्ष एक शोध छात्र को छात्रवृत्ति प्रदान करने की घोषणा भी की। इस अवसर पर कुलपति द्वारा शाहू जी वाटिका में वृक्षारोपण भी किया गया। इस अवसर पर प्रो.  संजय  कुमार स्वर्णकार, डीन प्रशासन प्रो. सुधांशु पांडिया, प्रो. सुधीर अवस्थी, प्रो. मुनेश कुमार, प्रो. अंशु यादव, प्रो. वर्षा गुप्ता, डॉ. संदीप सिंह, डॉक्टर आर.पी. सिंह, डॉ. अजय यादव डॉ. प्रवीण भाई पटेल डॉ. प्रवीण कटियार एवं डॉ. विवेक सिंह सचान आदि मौजूद रहे।

Popular posts from this blog

कोतवाली में मादा बंदर ने जन्मा बच्चा

माध्यमिक विद्यालयों को प्रान्तीयकृत किये जाने के सम्बन्ध में नीति निर्धारण

रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रखा जाए : मुख्यमंत्री