मुख्यमंत्री ने उ प्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की कोविड-19 पर केन्द्रित ई-पुस्तक का वर्चुअल माध्यम से विमोचन किया

 > कोरोना की तीसरी लहर की सम्भावना के मद्देनजर अभी से व्यापक तैयारी की जा रही है : मुख्यमंत्री



उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 01 जून, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा कोविड-19 पर तैयार ई-पुस्तक का विमोचन करते हुए।
दैनिक कानपुर उजाला
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने मंगलवार 1 जून को  लोक भवन में उ प्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की कोविड-19 पर केन्द्रित ई-पुस्तक का वर्चुअल माध्यम से विमोचन किया। उन्होंने कहा कि कोविड से लड़ने में यह ई-पुस्तक लोगों के लिए अत्यन्त उपयोगी साबित होगी। इस ई-पुस्तक के माध्यम से एक बड़े तबके को जागरुक करने में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री ने उ प्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष तथा मा. उच्च न्यायालय इलाहाबाद के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय यादव एवं प्राधिकरण के सदस्य सचिव अशोक कुमार का इस सदी की सबसे बड़ी महामारी के बारे में ई-पुस्तक के माध्यम से जागरुकता पैदा करने के लिए आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि ई-पुस्तक तथ्यात्मक व वैज्ञानिक जानकारी पर आधारित होने के कारण कोरोना के प्रति भ्रान्तियों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान देगी। यह ई-पुस्तक आज के समय के अनुरूप सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर तैयार की गयी है। उन्होंने कहा कि इस ई-पुस्तक को पब्लिक पोर्टल पर उपलब्ध कराया जाए, जिससे माध्यमिक, उच्च व प्राविधिक शिक्षण संस्थान ऑनलाइन क्लासेज के माध्यम से बच्चों को यह ई-पुस्तक पढ़ने के लिए जरूर कहें। कोविड की दूसरी लहर को नियंत्रित करने में हमें सफलता मिली है। प्रदेश के 64 जिलों में आंशिक कोरोना कर्फ्यू में छूट दी गयी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में देश व प्रदेश में कोरोना के खिलाफ एक रणनीतिक लड़ाई लड़ी जा रही है। जब प्रदेश में पहला कोविड मरीज मिला था, तब प्रदेश की टेस्ट क्षमता शून्य थी, वहीं आज यह क्षमता 3.5 लाख से 04 लाख कोरोना टेस्ट प्रतिदिन की है। भारत की तुलना में अमेरिका, यू.के., जर्मनी तथा फ्रांस जैसे विकसित देशों में हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर काफी मजबूत है, इसके बावजूद वहां कोविड से मृत्यु दर काफी अधिक रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोविड केयर फण्ड बनाया, जिसमें सरकार के मंत्रियों, विधायकों, सांसदों व समाज के विभिन्न लोगों ने सहयोग किया। इससे लगभग 400 करोड़ रुपये मिले। इसका सदुपयोग नई टेस्टिंग लैब स्थापित करने में किया गया। आज प्रदेश में 80,000 आई.सी.यू. और आइसोलेशन बेड स्थापित किये गये हैं। उत्तर प्रदेश, देश का पहला राज्य होगा, जिसने 5 करोड़ कोरोना टेस्ट किये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के बेहतर कोविड प्रबन्धन से महामारी पर प्रभावी अंकुश लगा है। दूसरी लहर के दौरान पोस्ट कोविड मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा था। इसके दृष्टिगत प्रदेश सरकार ने 14 विशेषज्ञों का एक एडवाइजरी ग्रुप बनाया, जो राज्य सरकार को सुझाव देता है। प्रदेश के सभी जनपदों में पोस्ट कोविड वाॅर्ड स्थापित किये गये हैं, जहां पोस्ट कोविड काॅम्प्लीकेशन्स वाले मरीजों का उपचार किया जा रहा है। प्रदेश में कोविड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर पूरी सक्रियता से संचालित किये जा रहे हैं। सी.एम. हेल्प लाइन के माध्यम से कोरोना मरीजों का  हालचाल भी प्रतिदिन लिया जाता है। आंशिक कोरोना कर्फ्यू के कारण लोगों को भोजन की समस्या न हो, इसलिए कम्युनिटी किचन भी संचालित किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पिछले 25 दिनों में अनेक जनपदों का दौरा किया है और वहां के लोगों से बातचीत की। कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई  मानवता को बचाने की लड़ाई है। इसमें सभी संगठनों, धर्म, समुदायों के लोगों का सहयोग प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा कि उन्होंने धर्म गुरुओं, निगरानी समितियों आदि से संवाद किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर की सम्भावना के मद्देनजर अभी से व्यापक तैयारी की जा रही है। इसके अन्तर्गत व्यापक स्तर पर स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का काम किया जा रहा है। सभी जनपदों में पीकू व नीकू वाॅर्ड बनाये जा रहे हैं। 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के अभिभावकों को वैक्सीनेट करने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान बुद्ध का कथन है कि दुःख है तो उसका कारण भी है और निवारण भी। कोविड-19 महामारी है सामान्य फ्लू नहीं। महामारी की गम्भीरता को जनसामान्य समझने लगेगा अथवा हम उसे समझाने का प्रयास करेंगे तो हम यह भी बताने में सफल होंगे कि इस महामारी में उपचार से महत्वपूर्ण बचाव है। हम जितना अधिक बचाव कर पाएंगे वह सर्वाेत्तम उपाय है। फिर भी यदि कोई बीमार होता है तो उसे राज्य सरकार स्तरीय चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराने का कार्य कर रही है। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम.एस.एम.ई. नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव न्याय प्रमोद कुमार श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव संसदीय कार्य जे. पी. सिंह - II, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद