पूर्व की लोक अदालत के सापेक्ष लगभग 6 गुना 28,184 मामलों का हुआ निस्तारण

 
रिबन काटकर राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारम्भ करते जनपद न्यायाधीश चवन प्रकाश तथा दूसरे चित्र में बाईं तरफ से अपर जनपद न्यायाधीश राजेश कुमार राय, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष चवन प्रकाश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अचल प्रताप सिंह।  


दैनिक कानपुर उजाला
फर्रुखाबाद।
राष्ट्रीय / राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, फर्रुखाबाद के तत्वावधान में जिला न्यायालय से तहसील न्यायालयों तक शनिवार 10 जुलाई को राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारम्भ, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, फर्रुखाबाद के अध्यक्ष / जनपद न्यायाधीश चवन प्रकाश द्वारा न्यायिक अधिकारीगण के साथ दीप प्रज्वलित कर किया गया। उनकी अध्यक्षता में प्रातः 10 बजे से सायं काल तक राष्ट्रीय लोक अदालत का कार्यक्रम सम्पन्न किया गया। राष्ट्रीय लोक अदालत में जनपद के विभिन्न बैंक, विद्युत विभाग, नगर पालिका परिषद एवं अन्य प्रशासनिक विभागों द्वारा अपने - अपने स्टॉल लगाकर संबंधित पक्षकारों के समक्ष उनकी सहमति के आधार पर सुलह-संधि कराते हुए मामलों का निस्तारण किया। 328 बैंक वसूली से सम्बन्धित मामलों को निस्तारित कर 2,45,71,964 रुपये की वसूली धनराशि बैंकों द्वारा प्राप्त की गयी। 12,973 विद्युत बिल सम्बन्धी मामलों का निस्तारण किया गया। इस अवसर पर जनपद न्यायाधीश चवन प्रकाश एवं प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय आलोक कुमार पाराशर द्वारा पारिजात का पौधा न्यायालय प्रांगण में लगाकर आमजन को पर्यावरण जागरुकता का संदेश दिया। प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय आलोक कुमार पाराशर द्वारा 15 पारिवारिक / वैवाहिक वादों का निस्तारण किया गया। पीठासीन अधिकारी मोटर वाहन दुर्घटना प्रतिकर अधिनियम बृजेन्द्र कुमार त्यागी द्वारा 50 वादों का निस्तारण कर 43 लाख रुपये से अधिक की धनराशि प्राप्त करायी गयी। राष्ट्रीय लोक अदालत में जनपद के विभिन्न न्यायालयों / विभागों / कार्यालयों द्वारा अलग - अलग मामले चिन्हित कर निस्तारित किये गये। कुल लंबित 9,345 मामलों में से 4,570 तथा प्री-लिटिगेशन के 3,260 मामलों में से 2,364 मामले निस्तारित किये गये हैं। इस प्रकार कुल 28,184 मामलों का निस्तारण कर कुल 3,69,90,682 रुपये धनराशि जमा करायी गयी। सभी विभागों एवं अधिकारियों के सहयोग से लक्ष्य से अधिक मुकदमों का निस्तारण किया गया है। राष्ट्रीय कार्यक्रम में उपस्थित होकर सहयोग देने वाले अधिकारीगण में अपर जनपद न्यायाधीश, कक्ष सं. 1 राजेश कुमार राय, अपर जनपद न्यायाधीश एस.सी. / एस.टी. एक्ट विजय कुमार गुप्ता, विशेष न्यायाधीश / द. प्र. क्षेत्र नोडल अधिकारी राष्ट्रीय लोक अदालत महेन्द्र सिंह, विशेष न्यायाधीश (ई.सी. एक्ट) कृष्ण कुमार, अपर जिला जज त्वरित न्यायालय कक्ष संख्या - 2 नरेन्द्र प्रकाश, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रवीन त्यागी, सिविल जज व.प्र. / एफ.टी.सी. सुमित प्रेमी, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राजेन्द्र सिंह, सिविल जज व.प्र. / एफ.टी.सी. श्रीमती विनीता सिंह, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (रेलवे) अश्वनी कुमार, सिविल जज आ. प्र.(कायमगंज), ए.सी.जे.एम. रेलवे वैभव सिंह, सिविल जज आ. प्र. (सिटी) सुश्री निधि यादव, जे.एम. सदर श्रीमती सुमन सोलंकी, सिविल जज आ. प्र. (हवाली) सुश्री गार्गी, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी कोर्ट मैनेजर मो. आरिफ खां, शैलेन्द्र शुक्ला, केन्द्रीय नाजिर मो. हफीज अहमद सैफी व विभिन्न न्यायालयों, बैंकों व विभागों के अधिकारीगण, कर्मचारी गण, पैरा विधिक स्वयं सेवक गण एवं वादकारी गण उपस्थित रहे। इस राष्ट्रीय लोक अदालत में पूर्व की लोक अदालत के सापेक्ष लगभग 6 गुना वादों का निस्तारण आपसी सुलह समझौता के आधार पर किया गया है। राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल कार्यक्रम के समापन पर जनपद न्यायाधीश चवन प्रकाश एवं जिला विधिक प्राधिकरण के सचिव अचल प्रताप सिंह द्वारा आभार व्यक्त किया गया।

Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की