प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत फसल बीमा सप्ताह का शुभारम्भ

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार हेतु जाएंगे प्रचार वाहन

> जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार एवं मुख्य विकास अधिकारी दिव्यांशू पटेल ने हरी झण्डी दिखाकर बीमा कम्पनी के प्रचार वाहन को रवाना किया।
> जिन किसानों का बीमा नहीं है और किसान क्रेडिट कार्ड है वे किसान बीमा कराने के लिये फसलवार प्रीमियम दिनांक 31.07.2021 तक करें जमा  
> किसान क्रेडिट कार्ड वाले किसान बीमा नहीं कराना चाहते हैं तो वह बैंक शाखा में जाकर 24 जुलाई तक लिखकर दें

 
जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार फसल बीमा सप्ताह के शुभारम्भ पर हरी झण्डी दिखाकर बीमा कम्पनी के प्रचार वाहन को रवाना करते हुए।


दैनिक कानपुर उजाला
उन्नाव।
शुक्रवार को जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत फसल बीमा सप्ताह का शुभारम्भ भारत अमृत भारत उत्सव के अन्तर्गत किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने विगत वर्ष खरीफ वर्ष 2020 में सर्वाधिक बीमा क्षतिपूर्ति प्राप्त करने वाले 05 किसानों दयाराम पुत्र लल्लू निवासी ग्राम पुरौना विकास खण्ड बीघापुर, महादेव पुत्र भोला निवासी ग्राम पुरौना विकास खण्ड बीघापुर, शिवाकांत पुत्र प्यारे निवासी ग्राम सातन विकास खण्ड सि. कर्ण, श्रीमती प्रतिभा देवी पत्नी शिव कान्त निवासी ग्राम सातन विकास खण्ड सि. कर्ण एवं ओम प्रकाश तिवारी पुत्र जगन्नाथ निवासी ग्राम नगही, विकास खण्ड फतेहपुर चौरासी को सम्मानित किया। इस के साथ-साथ योजनान्तर्गत सक्रिय योगदान करने वाले बीमा कर्मी अरिदमन सिंह, जिला समन्वयक कुलदीप ओझा, ब्लाक समन्वयक, शाखा प्रबंधक अंकुर वर्मा आई.डी.बी.आई. बैंक शाखा शलीद एवं सी.एस.सी. शाखा हसनगंज के प्रभारी को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी दिव्यांशु पटेल ने किसानों का उत्साहवर्धन करते हुये कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत प्राकृतिक आपदा की दशा में होने वाले नुकसान की भरपाई के लिये किसान क्रेडिट कार्ड बनवाकर बीमा योजना से जुड़ें। उन्होंने यह भी कहा कि यदि किसान क्रेडिट कार्ड नहीं है तो सी.एस.सी. में जाकर अधिसूचित क्षेत्र / फसलों का बीमा कराने के लिये धनराशि जमा कर रसीद प्राप्त कर सकते हैं। इस अवसर पर उप कृषि निदेशक ने अवगत कराया कि आगामी खरीफ मौसम के लिये फसल धान का कृषक अंश 1084.42 रुपये / हेक्टेयर, मक्का का कृषक अंश 643.46 रुपये / हेक्टेयर, ज्वार का कृषक अंश 521.02 रुपये / हेक्टेयर, उर्द का कृषक अंश 674.42 रुपये / हेक्टेयर, मूंग का कृषक अंश 833.02 रुपये / हेक्टेयर, तिल का कृषक अंश 173.54 रुपये / हेक्टेयर, मूंग फली का कृषक अंश 885.04 रुपये / हेक्टेयर एवं अरहर का 1042.84 रुपये / हेक्टेयर निर्धारित है। जिन कृषकों के किसान क्रेडिट कार्ड बने हुए हैं उनके खाते से स्वतः ही किश्त कट जायेगी और जिनका बीमा नहीं है और किसान क्रेडिट कार्ड है वे किसान बीमा कराने के लिये फसलवार प्रीमियम दिनांक 31.07.2021 तक जमा कर रसीद प्राप्त कर सकते हैं। किसान क्रेडिट कार्ड वाले किसान बीमा नहीं कराना चाहते हैं तो वह बैंक शाखा में जाकर 24 जुलाई तक लिखकर यह दे दें कि वह बीमा नहीं कराना चाहते हैं तो उनके खाते से बीमा किश्त राशि नहीं कटेगी। जिलाधिकारी ने कृषि विभाग और बीमा कम्पनी के अधिकारियों / कर्मचारियों को निर्देशित किया कि योजनान्तर्गत सप्ताह में सभी विकास खण्डों में जाकर और न्याय पंचायत स्तर पर जाकर प्रचार वाहन / गोष्ठियों के माध्यम से योजना का व्यापक प्रचार प्रसार करें और अधिक - से - अधिक किसानों को योजना की जानकारी दें। दिनांक 02.07.2021 को सि. सिरोसी, बिछिया में; 03.07.2021 को पुरवा, हिलौली; 04.07.2021 को नवाबगंज, असोहा; 05.07.2021 को हसनगंज, औरास; 06.07.2021 को मियाँगंज; 07.07.2021 को बांगरमऊ, गंज मुरादाबाद;  08.07.2021 को फतेहपुर चौरासी; 09.07.2021 को सि. कर्ण, सफीपुर एवं  10.07.2021 को बीघापुर, सुमेरपुर में प्रचार वाहन जायेगा। जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार एवं मुख्य विकास अधिकारी दिव्यांशु पटेल ने हरी झंडी दिखाकर बीमा कम्पनी के प्रचार वाहन को रवाना किया। बीमा कंपनी के जिला प्रतिनिधि अरिदमन सिंह एवं चाँद बाबू ने अवगत कराया कि दिनांक 11.07.2021 से दिनांक 16.07.2021 तक जनपद के सभी 16 विकास खण्डों में विकास खण्ड स्तरीय कैम्पों का आयोजन किया जायेगा जिसमे योजनान्तर्गत कृषकों को जागरुक हेतु साहित्य आदि का वितरण किया जायेगा। इस अवसर पर जिला कृषि रक्षा अधिकारी एवं जिला उद्यान अधिकारी ने किसानों एवं अधिकारियों का स्वागत करते हुये योजना की जानकारी दी।

Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की