महिलाओं वाले बूथ में महिला वैक्सीनेटर ही टीकाकरण करें : उपाध्यक्ष, राज्य महिला आयोग

 > मेरठ में मुख्यमंत्री बाल सेवा योजनान्तर्गत 85 बच्चों की स्वीकृति प्राप्त की गयी।


> राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने मेरठ मेडिकल कॉलेज एवं महिला चिकित्सालय मेरठ में टीकाकरण की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया।

> उपाध्यक्ष ने पिंक बूथ टीकाकरण का निरीक्षण किया।

> उपाध्यक्ष ने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना से जोड़े गए बच्चों की समीक्षा बैठक की।

> उपाध्यक्ष ने जनसुनवाई की तथा महिला शरणालय का निरीक्षण किया।

> महिलाओं के प्रति रहें संवेदनशील, संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन करें वरिष्ठ पुलिस अधिकारी : सुषमा सिंह
06 जुलाई को सर्किट हाउस में जनसुनवाई करतीं राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह।

दैनिक कानपुर उजाला
मेरठ। 
राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने मंगलवार को जनपद का दौरा कर सर्किट हाउस में जनसुनवाई की व अधिकारियों के साथ बैठक की तथा एल.एल.आर.एम. मेडिकल कालेज, जिला महिला अस्पताल का निरीक्षण किया। राजकीय महिला शरणालय व राजकीय पश्चातवर्ती देखरेख संगठन के निरीक्षण के दौरान उन्होने वहां वृक्षारोपण किया व निवासित बच्चियों व महिलाओं से वार्ता की। उन्होंने कहा कि महिलाएं अपने आप को किसी से कम न समझें व मुश्किलों का  सामना निडरता से करें, महिला आयोग हर कदम पर उनके साथ खड़ा है। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने सर्किट हाउस में जनसुनवाई के दौरान दहेज उत्पीड़न, घरेलू हिंसा आदि प्रकरणों के संबंध में पीड़ित महिलाओं की फरियाद सुनी व उसके गुणवत्तापरक निस्तारण के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिये। उनकी समस्याओं का गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराने के लिए कृत संकल्पित है। उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह थानों के पुलिस अधिकारियों की महिलाओं से व्यवहार व उनकी समस्याओं के प्रति संवेदनशील बनने के संबंध में संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन करें। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने एल.एल.आर.एम. मेडिकल कालेज के निरीक्षण के दौरान केन्द्रीय पुस्तकालय में बनाये गये टीकाकरण केन्द्र का निरीक्षण कर वहां टीकाकरण कराने आये लोगों को अंदर हॉल में बैठाने की व्यवस्था करने, पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिये तथा वहां हैल्प डेस्क बनाने के लिए भी कहा। उपाध्यक्ष ने कोरोना टीकाकरण के दूसरे डोज के लिए आये 45 आयु वर्ग से अधिक के व्यक्तियों को बिना रजिस्ट्रेशन के भी टीका लगवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वह अभी तक 22 से अधिक जिलों का निरीक्षण कर चुकी हैं। उन्होंने व्यवस्थाओं में अपेक्षा अनुरूप सुधार करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि अगर कोविशील्ड का इंजेक्शन लगाया जा रहा है तो इसको लिखकर प्रदर्शित भी करें साथ ही यहां मास्क व सैनिटाइजर व पानी की व्यवस्था भी की जाए ताकि टीकाकरण कराने आये लोगों को आसानी हो। उपाध्यक्ष ने जिला महिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान दो जगह कराये जा रहे टीकाकरण में महिलाओं वाले बूथ में महिला वैक्सीनेटर ही टीकाकरण करें ऐसी व्यवस्था करने के लिए कहा। उन्होंने वहां टीकाकरण कक्ष, एस.एन.सी.यू. (स्किन न्यू  बोर्न बेबी केयर यूनिट) व के.एम.सी. (कंगारू मदर केयर) कक्ष, लेबर रूम आदि का निरीक्षण किया। उन्होंने वहां टीकाकरण कराने आयी महिलाओं से वार्ता की। उपाध्यक्ष ने राजकीय महिला शरणालय व राजकीय पश्चातवर्ती देखरेख संगठन का निरीक्षण किया। उन्होंने वहां वृक्षारोपण किया व निवासित बच्चियों व महिलाओं से वार्ता की। जिला प्रोबेशन अधिकारी शत्रुघ्न कनौजिया ने बताया कि जनपद में मुख्यमंत्री बाल सेवा योजनान्तर्गत 85 ऐसे बच्चों की स्वीकृति प्राप्त की गयी है जिनके माता - पिता में से एक या दोनों का स्वर्गवास कोरोना महामारी के कारण हुआ है। उन्होंने बताया कि योजनान्तर्गत ऐसे बच्चों को 04 हजार रुपये प्रतिमाह की आर्थिक सहायता / पेंशन, 9वीं कक्षा व उससे ऊपर की कक्षा में अध्ययनरत ऐसे बच्चों को एक लैपटॉप व किशोरी के 18 वर्ष से ऊपर होने पर उसकी शादी पर 01 लाख 01 हजार रुपये दिये जाने का प्रावधान है। इस अवसर पर ए.सी.एम. चंद्रेश सिंह, सी.एम.ओ. अखिलेश मोहन, ए.सी.एम.ओ. डॉ.  पूजा शर्मा, जिला प्रोबेशन अधिकारी शत्रुघ्न कन्नौजिया, महेश चन्द्र कण्डवाल सहित अन्य अधिकारीगण, महिला पुलिस अधिकारी आदि उपस्थित रहे।



Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद