Milestone Makers Spring Cohort 2021 कार्यक्रम में 13 स्टार्टअप के वैश्विक समूह में से एक था आई.आई.टी. कानपुर का स्टार्टअप WUS

एस.आई.आई.सी. को WUS की उपलब्धियों पर गर्व है : प्रोफेसर इंचार्ज, एस.आई.आई.सी.

WUS के लिए आगामी उपलब्धियों की श्रृंखला में पहला कदम है : सी.ई.ओ., एस.आई.आई.सी.

> WUS का उद्देश्य श्रमिकों और यूनियनों के लिए एक एकीकृत - डिजिटल समुदाय का निर्माण करके भारत में 500 मिलियन श्रमिकों और वैश्विक स्तर पर 3.3 बिलियन श्रमिकों के जीवन में सुधार करना है।  

> भारतीय श्रमिकों के लिए वैश्विक संसाधन और समर्थन पाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से समर्थन मांगेगा WUS

> श्रमिकों के हित में कार्य हेतु WUS ने GASP के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर भी किए हैं।

> TIDE 2.0 कार्यक्रम के तहत इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने भी WUS को समर्थन दिया है।
NASDAQ टावर पर WUS ऐप के सी.ई.ओ. प्रसून शर्मा   

दैनिक कानपुर उजाला
कानपुर। स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (एस.आई.आई.सी.) आई.आई.टी. कानपुर के स्टार्टअप यू.पी. वर्कर्स यूनियन सपोर्ट (WUS)  ऐप को NASDAQ टावर न्यूयॉर्क, यू.एस.ए. पर चित्रित किया गया था। NASDAQ एंटरप्रेन्योरल सेंटर ने WUS ऐप को Milestone Makers Spring Cohort 2021 के लिए चुना था, जो संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल - असमानताओं को कम करने (SDG 10) पर काम करने वाले स्टार्टअप का समर्थन करता है। WUS ऐप एकमात्र भारतीय स्टार्टअप था जिसे 13 स्टार्टअप के वैश्विक समूह में चुना गया था। स्टार्टअप को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के "आत्मनिर्भर भारत ऐप चैलेंज" के आह्वान पर शामिल किया गया था। WUS ऐप का उद्देश्य श्रमिकों और यूनियनों के लिए एक एकीकृत - डिजिटल समुदाय का निर्माण करके भारत में 500 मिलियन श्रमिकों और वैश्विक स्तर पर 3.3 बिलियन श्रमिकों के जीवन में सुधार करना है। WUS ऐप के संस्थापक प्रसून शर्मा को बधाई देते हुए एस.आई.आई.सी. के प्रोफेसर इंचार्ज प्रो. अमिताभ बंद्योपाध्याय ने कहा कि "WUS ऐप अत्यधिक सावधानी और देखभाल के साथ मजदूरों की वित्तीय, स्वास्थ्य देखभाल, कानूनी सहायता, बीमा कवरेज की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म लाया है। जैसे ही हम कोविड-19 महामारी से उबरते हैं, नवोन्मेषकों को काम से वंचित समुदायों को समाधान प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।" अपनी सेवाओं के माध्यम से, WUS ने समाज के इस वर्ग के लिए एक लचीला और टिकाऊ भविष्य के पोषण की दिशा में एक कदम आगे बढ़ाया है। एस.आई.आई.सी. को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है।" कोविड-19 महामारी ने मौजूदा असमानताओं को गहरा कर दिया है, इसने गरीब और सबसे कमजोर समुदायों को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है। महामारी ने वैश्विक बेरोजगारी में काफी वृद्धि की है और श्रमिकों की आय में भारी गिरावट आई है। भारत सरकार श्रमिकों, विशेष रूप से कुशल और अर्धकुशल श्रमिकों को संसाधन और सहायता प्रदान करने के लिए बेहतर संसाधन प्रबंधन के लिए एक राष्ट्रीय कार्यकर्ता डेटाबेस का निर्माण कर रही है। माइलस्टोन मेकर प्रोग्राम और मेंटर्स के माध्यम से, WUS ऐप भारतीय ब्लू और ग्रे कॉलर वर्कर्स के लिए वैश्विक संसाधन और समर्थन लाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आई.एल.ओ.) जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से समर्थन मांगेगा। WUS ऐप ने ग्लोबल अलायंस फॉर ए सस्टेनेबल प्लैनेट (GASP) के साथ संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) के पूर्व कार्यकारी निदेशक एरिक सोलहेम और पूर्व सहायक महासचिव संयुक्त राष्ट्र (UN) डॉ. सत्या की सलाह के तहत एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। GASP और WUS ऐप 'कम आय वाले कामगारों की जी.डी.पी.' को बढ़ाने पर विशेष ध्यान देने के साथ परिवर्तनकारी पर्यावरण और सामाजिक प्रभाव देने के लिए संयुक्त रूप से काम करेंगे। WUS ऐप के सामाजिक प्रभाव को ध्यान में रखते हुए, प्रतिष्ठित TIDE 2.0 (प्रौद्योगिकी ऊष्मायन और उद्यमियों के विकास) कार्यक्रम के तहत इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeiTy, GoI) ने WUS ऐप को समर्थन दिया है। WUS ऐप उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्टअप है। एस.आई.आई.सी. और C3i हब, आई.आई.टी. कानपुर के सी.ई.ओ. निखिल अग्रवाल ने कहा कि "एस.आई.आई.सी. का लक्ष्य वैश्विक प्रभाव पैदा करने के लिए प्रेरित परिवर्तन निर्माताओं के एक अविश्वसनीय, स्वदेशी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देना है। WUS ऐप टीम का लक्ष्य ऐसा ही करना है; पिरामिड के तल पर विघटनकारी प्रभाव पैदा करें। NASDAQ माइलस्टोन मेकर्स कोहोर्ट में एकमात्र भारतीय स्टार्टअप होने के नाते WUS ऐप के लिए आगामी उपलब्धियों की श्रृंखला में पहला कदम है।

Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद